22.9.11

मन और झील कभी नहीं भरती...




पता नहीं क्यों मुझे
झील और मानव मन बराबर लगते हैं.
जैसे खाली बैठे-बैठे मन अशांत हो उठता हैं,
और
गर्मी बितते-बितते झील सूख ज़ाती है,
किन्तु गंदगी मन और झील में
सामान रूप से तैरती रहती है...
मन को किसी चंचल विचारों का,
और, झील को सावन का, इन्तेज़ार रहता है

मन में कुछ ख्याल उमड़ आते है,
जैसे घने काले बादल छाते है...
झमाझम पानी बरसते ही 
गली नालों से बह बह कर पानी
पुन: आता है इस झील में

न भरने की कसम खाने वाली
झील फिर से 
भरने को आतुर हो उठती है.
और न बहकने वाला मन
फिर बहक उठता है,

पहली फुहार से हरियाली लिए 
ये आबाद होने लगती है
क्योंकि सावन का वो उत्साह 
उसे सूखने नहीं देता....
जैसे मित्रगण, मन को शांत होने नहीं देते

और झील में दूर तक फैली हरियाली
मानो मन में भारी अवसाद...

हाँ,
झील सूख कर पुन: भर ज़ाती है
मन .... पुन: अशांत हो उठता है.
 

झील में फैली गंदगी... 
मानो मानव मन की गन्दगी









तिहाड गाँव की झील ... सावन में हरी भरी ...
मानो किसी के पोस्ट पर लहराती टिप्पणियां 

24 टिप्‍पणियां:

  1. मन झील नहीं दीपक बाबा भाव समुन्द्र ही है.
    मैंने मन पर एक पोस्ट लिखी थी
    'मन ही मुक्ति का द्वार है'

    आपकी भावपूर्ण प्रस्तुति मन को छूती है.
    मन अदभुत पहेली है, जी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कविता दोनों को प्रभावकारी तरीके से छूती है- मन को भी और झील को भी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. शायद इसीलिए झील की तुलना कवियों ने आँखों से की है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या बात है गज़ब कर दिया …………क्या तुलना की है……………शानदार्।

    उत्तर देंहटाएं
  5. दिल्‍ली वाले तिहाड़ लेक दिखाते हैं या तिहाड़ जैल। लेकिन इस बार बहुत सार्थक लिखा है, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रभावकारी कविता! प्रकृति में सृजन और विनाश दोनों ही हैं। इसी पर विचार करते हुए दशकों पहले एक पंक्ति बनी थी, आपकी कविता से याद आ गयी:
    "झील भरी तब जानिये जब नौ सौ गाँव डुबाय"

    उत्तर देंहटाएं
  7. 'झील और मन '
    बहुत ही सुन्दर साम्य दिखाते हुए , एक मनमोहक एवं भावपूर्ण रचना का सृजन किया है आपने ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. झील का बचे रहना ज़रूरी है.अगर ऐसा न हुआ तो गंदगी और मेंढक कहाँ जायेंगे ?

    उत्तर देंहटाएं
  9. तिहाड़ जेल मे जितने भी केदी हे सब मुफ़त का खा रहे हे, उन्हे लगाना चाहिये इस झीळ की सफ़ाई के लिये.

    उत्तर देंहटाएं
  10. मन-का मनमथ-मनचला, मनका पावै ढेर |
    मनसायन वो झील ही, करती रती कुबेर |

    करती रती कुबेर, झील लब-लबा उठी है |
    हुई नहीं अंधेर, नायिका सुगढ़ सुठी है |

    दीपक की बकवाद, सुना तो माथा ठनका |
    कीचड़ सा उपमान, रोप कर तोडा मनका ||

    नोट : टिप्पणी नापसंद तो डिलीट कर दें ||

    उत्तर देंहटाएं
  11. अगर आपकी उत्तम रचना, चर्चा में आ जाए |

    शुक्रवार का मंच जीत ले, मानस पर छा जाए ||


    तब भी क्या आनन्द बांटने, इधर नहीं आना है ?

    छोटी ख़ुशी मनाने आ, जो शीघ्र बड़ी पाना है ||

    चर्चा-मंच : 646

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत प्रभावी उम्दा रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  13. उमगि उमगि भरि चले तलावा ज्यों थ्योरे धन खल उतरावा
    सावन में ताल तलैयों और झील का भी यही चरित्र है .....

    उत्तर देंहटाएं
  14. झील की गन्दगी तो हम साफ़ कर सकते हैं मगर मन की गन्दगी का क्या करें ......
    रहस्यमय बाबा की जय जय !

    उत्तर देंहटाएं
  15. मन और झील .... अच्छी तुलना की है ..सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  16. मुख्य बात है झील और मन दोनो से ओवर फ़्लो हो कर कचरा बाहर निकल जाये और दोनो फ़िर साफ़ स्वच्छ निर्मल हो जायें

    उत्तर देंहटाएं
  17. कभी झील सी गहरी आँखों का ज़िक्र सुना था.. आज झील सा भरा मन देखा.. तब समझ में आया कि झील सी आँखें तो सब देखते हैं पर यह सोचा किसी ने कि आँखें मन का दर्पण होती हैं..
    बहुत ही गहरी है यह झील दीपक बाबू!! बहुत भरी हुई!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. झील की महिमा का मन से उपमित कर आपने सुंदर बखान किया है।
    संतोष जी की चिंता सृष्टि के व्यापक सरोकारों को लेकर है।
    दिलचस्प है, कि अतृप्ति दोनों का स्वभाव है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. हैरान हूँ कि मेरा कमेंट नहीं दिख रहा, शायद करना ही भूल गया था।
    झील का भरना-सूखना, मन का शांत-अशांत होना चलता ही रहेगा। वैसे पानी बहता हुआ ही भला होता है, झील बोले तो लेक का अपना एक्सपीरियंस ऐंवे सा ही है।
    बाई द वे, एक बोर्ड अमूमन लगा रहता है झील के आसपास - ’इस झील में नहाना सख्त मना है।’ इस झील के आसपास लगा है क्या?
    लिखते तो हमेशा ही अच्छा हो आप, पर इन दिनों शबाब जोरों पर है, खुदा बद नजर से बचाये:)

    उत्तर देंहटाएं
  20. झील के माध्यम से प्यार और पर्यावरण दोनों की बात... सुन्दर कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  21. Does your site have a contact page? I'm having trouble locating it but, I'd like to shoot
    you an email. I've got some creative ideas for your blog you might be interested in hearing. Either way, great blog and I look forward to seeing it expand over time.
    My website > more pictures

    उत्तर देंहटाएं

बक बक को समय देने के लिए आभार.
मार्गदर्शन और उत्साह बनाने के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है.