8.3.13

प्रणाम


सुबह चार बजे से रात्री दस बजे तक ....
तुम्हारे अथक परिश्रम को प्रणाम 

12 टिप्‍पणियां:

  1. कभी-कभी तो बारह भी बज जाते हैं ! :):)
    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  2. नारी का श्रम सचमुच वंदनीय है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. naman hae is shakti ko,lanat bhi hae us purush warg ko jo unke mahatve ko samajhta nahin.

    उत्तर देंहटाएं

बक बक को समय देने के लिए आभार.
मार्गदर्शन और उत्साह बनाने के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है.