17.8.13

हाल ऐ जिन्दगी

पार्क, गाँव, पहाड़ बारस्ता खेत , मकान दूकान से सरकते सरकते , गूगलिंग कर सर पटकते चश्मे के नम्बर बडवाते, कविता गुनगुनाते, लेख पढ़ते, गीत गाते, औरों से गिरते रूपये को थामते, कागज़ कागज़, प्रेस - प्लेट, स्याही, बिजली, लेबर, मंदी का रुदन करते, पर फिर से गर्दन झटक दो पैग लगा, बाईक उड़ा, बच्चों संग हंसी ठिठोली करते,  लेफ्ट राईट में टाईट होकर पैर पटक पटक जूता घिसाते फिरते,  देर शाम तक किसी भी नशेडी से हँसी ठठा करते ...  देश समाज चिंता से बेखबर, प्याज, आटा नून तेल, शेयर मार्किट, सोना, प्रोपर्टी को अस्सी पर बिठा, सदा मुस्कुराते बतियाते विजेता बन घूमते ......


मखा, आनंद बाबु कभी हमारी गली भी आया करो - रामा शामा कर जाया करो.


18 टिप्‍पणियां:

  1. घर के घसीटे से ऊपर उठती जिन्दगी

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सटीक रचना, इसी का नाम ज़िंदगी है

    उत्तर देंहटाएं
  3. @दिगम्बर साब और राजपूत साब...

    उत्साह वर्धन के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बस्तियों की हस्तियों की मस्तियों को देख कर|
    दिल कहे अब शांत हो कर गीत गाये ज़िंदगी||

    bahut khub

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हाथ में ‘आटा’ लिए, जो गुनगुनाये ज़िंदगी
      देख कर यूं दिलरुबा को मुस्कुराये ज़िंदगी


      बहुत खूब नवीन जी...
      http://thalebaithe.blogspot.in/2011/06/blog-post_29.html

      हटाएं
  5. ब्लॉग बुलेटिन की ६०० वीं बुलेटिन कभी खुशी - कभी ग़म: 600 वीं ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. जिंदगी ख्वाब है …. ख्वाब में सच है क्या और भला…… झूठ है क्या!!
    सुन्दर और मस्तमौला पंक्तियाँ। आभार।।

    एक रहस्य का जिंदा हो जाना - शीतला सिंह

    उत्तर देंहटाएं
  7. @देवेन्द्र जी, कविता जी, नवीन जी, सलिल जी (ब्लॉग बुलेटिन) , हर्षवर्धन जी और अजय जी आपका धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  8. जिंदगी बहुत खूबसूरत है जिंदगी का मजा हर इंसान नहीं ले पाता है जब तक वह जिंदगी का मतलब समझता है तब तक वह ख़तम होने के कगार पर होती है रहा आने जाने का वह हम आते जाते रहंगे ....जिंदगी जिन्दादिली का नाम है मुर्दा दिल किया ख़ाक जिया करते है ....

    जय बाबा बनारस....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. @जब तक वह जिंदगी का मतलब समझता है तब तक वह ख़तम होने के कगार पर होती है
      मिश्र जी, सही कहा आपने ...

      लेकिन

      ख़त्म होने की प्रक्रिया ही पूर्णत: की ओर अग्रसर होती है...

      हटाएं
  9. जिंदगी की आपाधापी...कब किसे समझ में आई है ....राम राम

    उत्तर देंहटाएं

बक बक को समय देने के लिए आभार.
मार्गदर्शन और उत्साह बनाने के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है.