13.3.11

मय दे साकी, तेरे मयखाने में आये हैं..



मय दे साकी, तेरे मयखाने में आये हैं..
कई दिनों से गम अपना छुपाये हुए हैं.

छलकती है मय जो तेरी इन आँखों से.
कसम से कल से मयखाना भुलाए हुए हैं.

आ पी ओ मय पीने वाले....  यूँ लब तेरे बुलाते है.
तेरे दर पर ही आकर जीने की कसम खाए हुए हैं.

इस जमाने ने बेवफाई के सिवा भी बहुत कुछ दिया है...
बैठ मेरे पास साकी, कब से सीने में ये गुबार छुपाये हुए है.

तेरी अदा जो  क़त्ल-ओ-गैरत करती है ज़माने में...
हाय हम तो - बस दिल अपना बचाए हुए है. 

वादे, कसमे, रिश्ते नाते - झूठ सभी कसम से साकी..
बस ये मय और प्याला ही - इक डोर बनाए हुए हैं.



कुछ भी ,..... यूँ ही लिख दिया.... बस ... बहुत दिन हो गए थे ... सोचते है की तमाम विद्जनो में बैठना अच्छी बात नहीं, पर  इतनी दूरी भी तो ठीक नहीं..... आप सभी विद्वान लोगों में कोई न कोई बक बक करने वाला भी तो होना चाहिए :)  

तो लिख दिया - बस, यूँ ही लिख दिया.....

जय राम जी की. 

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत दिनों बाद आपके दर्शन हुये जी
    बेहतरीन पंक्तियां

    छलकती है मय जो तेरी इन आँखों से.
    कसम से कल से मयखाना भुलाए हुए हैं.

    प्रणाम स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
  2. Baba ji Ram Ram

    bahut din baad bak bak sunne ko mili , aur jab mili to itani nashili ki maza aa gaya
    bhala hamse aisi bhi kya narazgi , post karna hi chod diya
    in vidwan logo ke beech me mere jaise nasamajh bhi hai ,
    aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  3. पूरे डेढ़ महीने बाद आपके दर्शन हुए हैं बाबा. आपकी बातें (बक-बक) के बिना कुछ अधूरा सा लग रहा था.

    उम्दा पंक्तियाँ. आते रहियेगा!

    उत्तर देंहटाएं
  4. कहाँ थे बाबा जी ! इत्ते दिन बाद आये, हाथ में दारु लेकर ...
    जय हो महाराज !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut sunder baba ji ....

    वादे, कसमे, रिश्ते नाते - झूठ सभी कसम से साकी..
    बस ये मय और प्याला ही - इक डोर बनाए हुए हैं.
    jai baba banaras........

    उत्तर देंहटाएं
  6. वादे, कसमे, रिश्ते नाते - झूठ सभी कसम से साकी..
    बस ये मय और प्याला ही - इक डोर बनाए हुए हैं.


    बड़े दिनों के बाद पढ़ने को मिली है बाबाजी की पोस्ट - आशा है स्वास्थ्य ठीक है अब।

    गुड लक बाबाजी:)

    उत्तर देंहटाएं
  7. स्वास्थ्य में सुधार दिख रहा है.. अपने रंग में लौट रहे हैं आप!! सुखद आगमन है आपका!!सुस्वागतम!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही अच्छा पोस्ट है आपका ! आपका दिन शुब हो
    प्रणाम,
    मेरा ब्लॉग विसीट करे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    उत्तर देंहटाएं
  9. कई दिन से अपना ग़म छुपाये हैं ...

    ये ग़म अब कलम से निकल ही जाए ...

    उत्तर देंहटाएं

  10. बाबा आज भटकता हुआ फिर तुम्हारे आश्रम में आ गया ...
    तुम्हारी इस रचना पर कुछ लिखने का दिल कर गया ...
    गलती हो तो दारू पीकर प्रूफ ठीक कर देना ....
    :-)

    वादे, कसमें, रिश्ते, नाते, झूठ कसम से, हैं साकी
    बस ये मय और प्याला ही एक डोर बनाये रहता है !

    और पिला दे साकी मुझको, मयखाने में आये हैं !
    मदहोशी में दिल बाबा का , दर्द भुलाये रहता है !

    तेरी अदा, जो क़त्ल ए गैरत करती रहे ज़माने में
    पता नहीं कैसे बाबा ! इस दिल को बचाए रहता है !

    उत्तर देंहटाएं
  11. बाबा आज भटकता हुआ फिर तुम्हारे आश्रम में आ गया ...
    तुम्हारी इस रचना पर कुछ लिखने का दिल कर गया ...
    गलती हो तो दारू पीकर प्रूफ ठीक कर देना ....
    :-)

    वादे, कसमें, रिश्ते, नाते, झूठ कसम से, हैं साकी
    बस ये मय और प्याला ही एक डोर बनाये रहता है !

    और पिला दे साकी मुझको, मयखाने में आये हैं !
    मदहोशी में दिल बाबा का , दर्द भुलाये रहता है !

    तेरी अदा, जो क़त्ल ए गैरत करती रहे ज़माने में
    पता नहीं कैसे बाबा ! इस दिल को बचाए रहता है !

    उत्तर देंहटाएं

बक बक को समय देने के लिए आभार.
मार्गदर्शन और उत्साह बनाने के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है.