29.7.11

हवाओं में कुछ जुल्फे ऐसे लहराई - बेनजीर तुम बहुत याद आयी

हवाओं में कुछ जुल्फे ऐसे लहराई
कि बेनजीर तुम बहुत याद आयी

कि जुल्फों वाली पडोसी गर घर में आ जाए .. तो जाहिर है कि नींद तो खराब हो ही ज़ाती है...... हाँ नींद खराब हो ही गयी ... आचारज की और सफ़ेद घर में पंचम जी की.

अब कुछ नहीं हो सकता..... दोनों ने अपने अपने तरीके से सभालने को कहा. पर क्या करे भावुक मन मेरा ... कहाँ कहाँ गोते लगाने लगा..... शायद १२ कक्षा का छात्र रहा हूँगा .... जब पड़ोस से एक और बला आयी थी...... जुल्फे तब भी लहराई थी.... पर क्या किया जाए गूगल बाबा नहीं थे.... जो अपने अपने दिलों का हाल सभी लोग लिख देते.

याद कीजिए गुजरा जमाना : चंद तस्वीरे हैं जो नेट से कॉपी की हैं.... वेबसाइट के नाम ध्यान नहीं आ रहे



ब्लेक एंड वाईट के जमाने की वो रुमानियत याद आ गयी न....... हाँ मुझे तो याद आ गयी..... आवारा .... श्री ४२० वगैरा वगैरा .....


लीजिए कुछ रंगीन तस्वीरें भी हाज़िर हैं......



माफ़ी चाहते हैं पड़ोसियों से ....... इस दोस्ती... सहअस्तित्व ..... प्राचीन सभ्यता... आपसी सोहार्द ....... रंजिश को भूलने वाले.... धर्म निरपेक्ष ... तेज़ी से उभरता..... विकसित..... शक्तिशाली देश, इन जुल्फों की क़द्र नहीं कर पाया.....

उन हसीन जुल्फों को बेहद ही उबाऊ और नीरस व्यक्तिव से उलझा दिया ...
इतिहास कभी माफ नहीं करेगा.. :)


सभी चित्र गु्गल से साभार


गीत याद आ गया : बिन बादल बरसात का ..
जब जाग उठे अरमान तो किसे नींद आये......

जय राम जी की.........

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत पुराने दिनों को याद कर लिया आपने....अब इन दोनों में से कोई नहीं इस जहान में ............आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. jab yad kisi ki aati hai otho pai hasi aa jaati hai..

    jai baba banaras.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बाबा जी राम राम

    बहुत रंगीन हो रहे जनाब
    रब खैर करे

    उत्तर देंहटाएं
  4. भूली बिसरी एक कहानी
    अब आई है याद पुरानी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रवृत्ति है अनुहार ढूंढने की, तो ठगा क्यू न जाये मन!

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या बता है ...??
    आज तो ब्लोगर प्रोफाइल में हमारे दीपक बाबा, आसिफ ज़रदारी नज़र आ रहे हैं :-)
    शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  7. तो अब बाबा शायरी करने लगे ! खूब !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुहानी और सुगम सफ़र ! जब तक यहाँ रही , इस धरती पर आकर्षण ही रहा !सभी नजरो के तीर के घायल थे ! कुछ तो राज है इस आकर्षण को आगे लाने के लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  9. तेरी ज़ुज्फों से जुदाई तो नहीं माँगी थी,
    क़ैद माँगी थी, रिहाई तो नहीं माँगी थी!!
    ... दिल के अरमानों की करवट ..उफ्फ्फ!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. deepak baba ji jab jab yeah padosi mehmaan aa ke gaya hai naya dard de gaya hai lijiye aage koi naya kargil hamare aur aap ke liye tayar ho raha hoga ospar

    उत्तर देंहटाएं

बक बक को समय देने के लिए आभार.
मार्गदर्शन और उत्साह बनाने के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है.