23.8.10

हम तो झंडू बाम हुए ... बाबू साहिब तेरे चक्कर में

इस मायावी दुनिया में सभी लोगों की नहीं चलती बाबू साहिब – अब पता चल गया. हमरे बापू खूब समझाते थे... बेटा ई दुनिया में पैसे और रसूख वाला आदमी ही इज्ज़त से जी सकता है – जरा संभल कर चलना।

महंगाई डाइन के चक्कर में हमऊ नें भी फैक्ट्री मालिक में हल्ला बोल दिया. मालिक से कह दिया ... पगार बढाइये. पूरी दुनिया में सबसे गरीब सांसदों की तनख्वाह बढ़ गई है तो हमुकी भी बडनी चाहिए. मालिक नें इनकार कर दई... अपने रोना रोने बैठ गई... फैक्ट्री में काम नहीं है... किराया बहुत है.. कम्पीटीशन का ज़माना है ... मशीन पुरानी है.... प्रोड़कशान निकल नहीं पाती... .................. बस का बताई हमर दिल भी बैठ गया. पर का करी.... पगार न बडवाते तो ऊ ससुर लाल झंडे वाले कामरेड दिमाग झनझना देत रहे. ..........

हमका कछू समझ न आई.......... या तो उ कामरेड लोग का सुनी .... या दिल का सुनी... या फिर मालिक साहिब का दुखडा देखि. चाय का दूकान पर अखबार में बाबु साहिब, आपके बारे में खबर पढ़ ई ..

“वेतन में पांच गुना तक बढ़ोतरी की मांग को लेकर विरोध कर रहे विपक्षी सांसदों ने संसद स्थगित होने के बाद समानांतर सरकार बना डाली। लालू यादव को प्रधानमंत्री चुना गया और मुलायम सिंह यादव को गृहमंत्री बनाया गया। इतना ही नहीं भाजपा नेता गोपीनाथ मुंडे को लोकसभा अध्यक्ष बना दिया गया। ‘

बस फिर का था.... हमूऊ जोश में आ गए....... तुरत फुरंत फैक्ट्री गए ....... और मालिक साहिब की कुर्सी पर धसिया कर बैठ गए............... और मालिक का चश्मा लगा कर खुद को फैक्ट्री का मालिक घोषित कर दिया. ................ ई रामदीन इहाँ आवा..... ए किश्न्वा..... औ अनिलवा... तुम भी. सबो लोग अपना अपना कापी लेइय आवा.... आज के मालिक हम.... सभो का पगार बड़ा दिया जावेगा. ................. खूब मजा आवा.... मन ही मन शुक्र किया आपका .... आपहो की आइडिया चल गया .............. हमारे मन में खूब आया की आप प्रधानमंत्री बन सकते हैं तो हमू भी फैक्ट्री के मालिक काहे नहीं बन सकते सरकार.

पर उ फैक्ट्री में एक तो ........ चम्च्वा रही मालिक का ........... तुरंत – फुरंत मालिक के फोन हुई गवा............... और मालिक आ धमके फैक्ट्री में .... हमका उठा कर गेट से बहार फेंकवा दिया गया. हम अपनी जिंदगी पर रो रहे है ............... जब हमे गेट से बहार फेक्वा दिया गया तो आपको क्यों नहीं संसद से बहार निकाला गया .... ई तो लोकशाही है बाबू.... कानून सबके लिए बराबर है....... महात्मा गाँधी दिला गए हैं आज़ादी ... पर आपकी पगार १०,००० रुपे बड गयी और हम बेरोजगार हो गए.............. काश अपने बापू की बात मानी होती। दुनिया को देख भाल कर चले होते।

बाबू साहिब .............. रेडियो पर गाना बज रही है .... मुन्नी बरबाद हुई – राजा तेरे लिया ......... और हमरा दिल खूब रो रहा है ............. क्योंकि हम तो झंडू बाम हुए बाबू तेरे चक्कर में।

11 टिप्‍पणियां:

  1. saach likhte ho babuji. AAcha lagta hain aapka sarcasm bhara likhne ka tarika.

    उत्तर देंहटाएं

  2. बहुत बढिया व्यंग्य,मजा आ गया

    श्रावणी पर्व की शुभकामनाएं एवं हार्दिक बधाई लांस नायक वेदराम!---(कहानी)

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस ज़माने में दो तरह के लोग आज भी हैं ....
    १- किसी की सुरक्षा,सहायता और सहयोग में ईमानदारी बरततें हैं ,अगर किसी की तिजौरी खुली दिख जाय तो उसे बंदकर उसके मालिक के आने तक उसे अपनी जान की परवाह किये वगैर हर-हाल में रक्षा करते हैं .

    २- किसी की सुरक्षा,सहायता और सहयोग को भी लूटने का साधन बनाकर किसी को भी लूटने में पीछे नहीं रहते हैं ,किसी की तिजौरी दिख जाय तो उसको लूटने का प्लान उसी वक्त से बनाने लगते हैं और किसी भी तिकरम से उसे लूट लेते हैं | हमारे देश के भ्रष्ट,मंत्री,नेता ऐसे ही लोग हैं जो जनता के खजाने की रक्षा करने की वजाय उसे लूटने के लिए नयी-नयी चाभियाँ और टूल्स का इजाद रोज कर रहें हैं जिससे असल मालिक जनता बद से बदतर अवस्था में पहुँचता जा रहा है ...अब तो जनता को सर पर कफ़न बांधना ही होगा...इन लूटेरों से लड़ने के लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. ,मजा आ गया रक्षाबंधन की ढेरों शुभकामनाए !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. hindustan ka saansad lagata hai sabsa garib hai tabhi to swiss bank mai account ka sapana dekheta hai ????????????

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. अब आपके बीच आ चूका है ब्लॉग जगत का नया अवतार www.apnivani.com
    आप अपना एकाउंट बना कर अपने ब्लॉग, फोटो, विडियो, ऑडियो, टिप्पड़ी लोगो के बीच शेयर कर सकते हैं !
    इसके साथ ही www.apnivani.com पहली हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट है| जन्हा आपको प्रोफाइल बनाने की सारी सुविधाएँ मिलेंगी!

    धनयवाद ...
    आप की अपनी www.apnivani.com टीम

    उत्तर देंहटाएं

बक बक को समय देने के लिए आभार.
मार्गदर्शन और उत्साह बनाने के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है.