21.10.10

आज दिन में तीन चुटकियाँ

आज दिन में तीन चुटकियाँ सुनाने को मिली.......... लिख रहे हैं....

अरे बाबा, उद्घाटन समारोह और समापन समारोह की टिकट तो मिली नहीं न ही देख पाए........ अब कृपया .... cwg investigation programme तो देख लें.
सर, चिंता मत कीजिए ये भी लाइव दिखाया जायेगा.

XXXXXXX

ये अमर बेल है सर, जिस पेड में फैलती है, पलती है ....... उसे ही सुखा देती है.... ठीक इन्ही कामरेडों की तरह........
फिर वो पेड तो खत्म हों जाता है और ये अमर बैल ही नज़र आती है....... और वो पेड भी अमर बैल वाले पेड के नाम से पुकारा जाता है.

XXXXXXXXX

तीसरी चुटकी हैं श्रीमान जगदीश्‍वर चतुर्वेदी जी, गूगल बाबा में सर्च करके दूंड लेना और पढ़ का हंस देना........... और हाँ ज्यादा दिमाग मत लगाना ...... खामखा आपका तो बी पी हाई हों जाएगा ..... पर उस बंदे को कोई फर्क नहीं पड़ेगा.........