1.10.10

फिजा में तैर रहे थे कुछ हर्फ़ महफूज़ से


फिजा में तैर रहे थे कुछ हर्फ़ महफूज़ से
दिल्लगी से मैंने छुए और -
हाथ में आये तो दास्तां बन गए.
कहीं हीर रांझा लिख दिया
और कहीं
सोहनी ते महिवाल लिख दिया.

कहीं कब्रों से उठ बैठा बुल्लेशाह...
इक नई इबारत पढ़ने के लिए.
इक नई इबारत गड़ने के लिए.

वो रांझा आज भी मारा फिरता है .
अपनी हीर की तलाश में.
जो मशरूफ है अपनी जिंदगानी में
अपनी जवानी में..
तख़्त हजारे को याद कर के
वो आज भी रोता है

हीर अब  चेटिंग से
रोज इक नई दास्तां बनाती है.

13 टिप्‍पणियां:

  1. दिल्लगी से मैंने छुए और - हाथ में आये तो दास्तां बन गए.
    आपकी रचना चोरी हो गयी ..... यहाँ देखे
    http://chorikablog.blogspot.com/2010/10/blog-post_8465.html

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. जनाब इतना सुन्दर लिखते ही क्यों है की चोरी हो जाये। आखिर चोर भी इंसान है बेचारा। मुझे तो सच हँसी आ रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. चोर तो चोरी करेगा ही. हमारे भी ब्लाग पर जनाब पधारे थे.आखिर कविता में दम था तभी ना. बाबा की बकबक है ही इस तरह की कि किसी की भी नजर लग जाय. बहुत सुन्दर कविता.हीर को भी आरकुट वालों ने अपने जाल में फंसा रखा होगा. बेचारा रांझा.....

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह नये ज़माने की चेटिंग करने वाली हीर है

    उत्तर देंहटाएं
  7. बाबा जी,
    शुक्र है हरकीरत हीर जी ने आपकी ये पोस्ट नहीं पढ़ी, नहीं तो आपकी खैर नहीं होती...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छा तो ये बात थी ......
    खुशदीप जी आप एक मेल कर देते तो हम खैर लेने पहले आ जाते .....हा...हा...हा....!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. कौशल जी, सक्सेना जी, उपेन्द्र जी और शरद जी, आपका ये प्यार ही तो कुछ न कुछ बकने को मजबूर करता है.

    पाण्डेय जी, खुशदीप जी और हरकीरत ही आपका आभार - पहली बार मेरे ब्लॉग पर विजिट किया है.

    बाकि चोर भाई - छोटे ब्लोगर है - वैसे ही कम लिखते हैं - वो भी आप ले उड़ोगे तो हम क्या करेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  10. दीपक जी आई तो थी आपकी खूबसूरत नज़्म देख कर पर बीच में खुशदीप जी की टिपण्णी की ओर ध्यान चला गया और आपकी नज़्म की बात अधूरी ही रह गयी ....

    फिजा में तैर रहे थे कुछ हर्फ़ महफूज़ से
    दिल्लगी से मैंने छुए और -
    हाथ में आये तो दास्तां बन गए.
    कहीं हीर रांझा लिख दिया
    और कहीं .....

    दिल्लगी भी यूँ की तूने रान्झया ...
    तू अपनी बात भूल गया
    चैटिंग की बात कह, हीर बदनाम कर गया ......

    उत्तर देंहटाएं
  11. दिल्लगी भी यूँ की तूने रान्झया ...
    तू अपनी बात भूल गया
    चैटिंग की बात कह, हीर बदनाम कर गया ....



    जहां रांझा इक पायल कि झंकार पर दोड़ता चला आता था.
    अब हीर बज़ करके ओरो को बुलाती है.

    ये नए ज़माने कि बात है.

    हरकीरत जी,
    मेरे ख्याल से ये ठीक है न.

    उत्तर देंहटाएं

बक बक को समय देने के लिए आभार.
मार्गदर्शन और उत्साह बनाने के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है.